रात को सोते वक्त सिर के पास मोबाइल क्यों नहीं रखना चाहिए। Hindi || UniqueLifes ||

harmful radiation
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •  
  •  


रात को सोते वक्त सिर के पास मोबाइल क्यों नहीं रखना चाहिए – Why should not keep mobile near the head while sleeping at night.

आज के समय में अपना पर्सनल मोबाइल रखना एक आम बात हो गयी है। समय के साथ धीरे-धीरे स्मार्ट मोबाइल हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन चूका हैं। लेकिन इसके फायदे के साथ साथ स्वास्थ्य के बहुत नुकसान भी है। चलिए जानते है इलेक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगे हमारे जीवन पर क्या क्या बुरा असर डालती है

[lwptoc min=”2″ depth=”6″ title=”All Topic Given Here” titleFontSize=”24px” itemsFontSize=”18px” borderColor=”#81d742″ hoverLinkColor=”#ff2600″]

कितना ख़तरनाक है मोबाइल का रेडियेशन  

भारत में मोबाइल फोन से निकलने वाले जानलेवा रेडियेशन के खतरे को कम करने के लिए भारतीय दूरसंचार मंत्रालय ने 2012 में नये नियम बनाये। सेलफोन(cell phone) की वजह से तेजी से बढ़ रहे कैंसर के मामलों के कारण सरकार ने यह फैसला लिया।

नये कानून के तहत प्रत्येक मोबाइल फोन का स्पेसिफिक एब्जार्प्शन(Specific Absorption Rate) यानी SAR का स्तर 1.6 वॉट प्रति किग्रा होना अनिवार्य है।

इससे पहले ये मानक 2 वॉट प्रति किग्रा था। इसका 1 ग्रा रेडियेशन भी शरीर के लिए नुकसानदेह है। यदि कोई व्यक्ति लगातार बीस मिनट उससे ज़्यदा देर तक कान के पास मोबाइल फोन को एकदम क़रीब रख कर   बात करता है तो उसके दिमाग का तापमान दो डिग्री सेल्शियस तक बढ़ने की आशंका रहती है और यह बहुत हानिकारक होता है जिस्सके कारण ब्रेन ट्यूमर जैसे रोगो की होने की सम्भवना बहुत ज़्यादा हो जाती है।

इसलिए  दोस्तों आपको अपने स्मार्टफोन(Mobile) को कभी भी तकिये के पास या बेड पर या नजदीक नही रखना चाहिए ताकि इन हानिकारक रेडिएशन से बचा जा सके।

tower radiation

अगर आप अपने मोबाइल का SAR Value check करना चाहते है तो  dial करे  *#07#

Mobile Radiation आपके DNA को भी प्रभावित करता है:-

radiation dna damage

कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि मोबाइल फोन के रेडिएशन कई तरह से शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। मोबाइल फोन के रेडिएशन का एक प्रभाव यह देखा गया है कि यह आपके शरीर को प्रभावित करता है। यह सीधे डीएनए(DNA) पर भी असर करता है।

इन्ही कारणों से गर्भवती महिलाओं को इन रेडिएशन से दूर रहने को कहा जाता है। यह रेडिएशन नवजात शिशु के डीएनए(DNA) तक को प्रभावित कर सकता है  और साथ ही  शिशु को कैंसर तक का खतरा भी बढ़ जाता है। हमारे स्मार्टफोन से निकलने वाले रेडिएशन इतने ख़तरनाक होते हैं कि यह हमारी आनुवंशिक(DNA) जानकारी में परिवर्तन कर सकते हैं।

स्मार्टफोन के रेडिएशन आंख का कैंसर, थायराइड, मेलेनोमा ल्यूकेमिया और स्तन कैंसर जैसी बीमारियां हो सकती हैं जो की बहुत ख़तरनाक बीमारिया है।

 क्या हो सकता है नुकसान

– रोजाना 50 मिनट या घंटो-घंटो तक लगातार मोबाइल का इस्तेमाल करने वालो के दिमाग की कोशिकाओं को नुकसान पहुंच सकता है।
– मोबाइल फोनया मोबाइल टावर आस पास के रेडिएशन से कैंसर होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

 

इसे भी पढ़े – आँखों को स्वस्थ्य रखने के Unique Tips :- Unique Tips to keep Eyes healthy

मोबाइल रेडिएशन से बचने के लिए कुछ अनोखे उपाय

अपने सेलफोन से हमेशा दुरी बनाकर रहे –

radiation poison

इसे अपने शरीर से दूर रखिये। क्योंकि सेलफोन पर बात के दौरान इससे निकलने वाली किरणों से शरीर को नुकसान हो सकता है। यदि आप इसे प्रयोग के दौरान शरीर से दूर रखेंगे तो इसके रेडियेशन से कुछ हद तक बचाव संभव हो सकेगा।

सदैव प्रयोग करे ईयरफोन का –

using earphone

 

इयरफोन का प्रयोग सबसे अच्छा माना जाता है सेलफोन से नकलने वाले ख़तरनाक रेडिएशन के बचाव के लिए। दोस्तों जब हम ईयरफोन का  प्रयोग करते है तो इससे हमारा दिमाग सेलफोन से दूर रहता है और आप लंबी बातचीत भी कर सकते है जिससे रेडिएशन का ख़तरा भी नहीं रहता है। यदि दोस्तों आप हमेशा ईयरफोन का प्रयोग नहीं कर सकते हैं तो इसे स्पीकर मोड का प्रयोग करके बात करे । ध्यान रहे दोस्तों आपको ईयरफोन का प्रयोग अधिक गाने सुनने के लिए नहीं बल्कि फोन पर बात करते दौरान भी प्रयोग कीजिए। 

अधिक मैसेज कीजिए –

message

Messaging करना सबसे अच्छा माना जाता है यह रेडिएशन से बचाव के लिए अच्छा communication तरीका है  और  आजकल  तो Google playstore पर एक से बढ़कर एक Messaging App आ गए  है।

मोबाइल का Signal –

Mobile Signalजब कभी आप किसी को  फोन लगाते है तो आपको हमेशा पहले मोबाइल का टावर सिग्नल देखना चाहिए।  जब  कभी भी मोबाइल का टावर सिग्नल कमजोर या केवल एक टावर हो तो उस स्थति आपको फ़ोन नहीं लगाना चाहिए और ना ऐसी स्थिति में मोबाइल पर बात करना चाहिए।

सही जगह रखें – मोबाइल को कभी भी  सिर, दिल ऐसी शरीर के ऐसे भाग, जो बहुत अधिक संवेदनशील  हो, पर मोबाइल रेडियेशन का ख़तरा अधिक होता है। मोबाइल फोन को कभी भी रात के वक्त सोते समय तकिये नीचे नहीं रखना चाहिए यह मनुष्य शरीर के ब्रेन के बहुत हानिकारक होता है। okay

लगातार बात न करें –

mobile harm radiation

 यदि कोई व्यक्ति लगातार बीस मिनट उससे ज़्यदा देर तक कान के पास मोबाइल फोन को एकदम क़रीब रख कर   बात करता है तो उसके दिमाग का तापमान दो डिग्री सेल्शियस तक बढ़ने की आशंका रहती है और यह बहुत हानिकारक होता है जिस्सके कारण ब्रेन ट्यूमर जैसे रोगो की होने की सम्भवना बहुत ज़्यदा हो जाती है।

टर्न ऑफ कीजिए –

mobile turn off

जब आपको  फोन का प्रयोग ना करना हो तो उस समय के लिए अपना स्मार्टफोन ऑफ कीजिये जिससे कुछ देर ही के लिए रेडियेशन से बचा जा सके।

अच्छी गुणवत्ता का फोन –

हमेशा  ऐसा फोन खरीदिये जिसका स्पेसिफिक एब्जार्प्शन(SAR) यानी एसआर रेट का लेवेल कम हो क्योंकि अधिक एसआर(SAR) रेट के कारण इससे रेडियेशन का खतरा अधिक होता है। हालांकि, तय सीमा (1.6 W/kg) से ज्यादा रेडिएशन छोड़ने वाले फोन का इस्तेमाल न करें तो बेहतर ही रहेगा।

Specific Absorption Rate (SAR)

 

इसे भी पढ़े – जरूर करे मखाना का सेवन स्वस्थ रहने के लिए – Must eat Makhana to be healthy in Hindi



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •  
  •  
Author: UniqueLifes

Leave a Reply